ब्लॉग

गोपेश जी महाराज ने कहा कि मां जगदंबा की इच्छा ही सर्वोपरि है. संपूर्ण जगत को मोहित करने वाली महामाया भी यही हैं और माया के बंधन से मुक्त करने वाली सच्चिदानन्दमयी आद्या सनातनी शक्ति भी यही हैं.........

आगे और पढ़ें...

कथा समय सारणी

कथा का विवरण

श्री ब्रह्मवैवर्त महापुराण भक्ति-ज्ञानयज्ञ - [LIVE on Aastha bhajan channel]

  • तारीख:  : 11/03/2019 से 17/03/2019 तक
  • पता : फोगला आश्रम ( श्रीजी सदन ) रमनरेती रोड श्रीधाम वृंदावन

कथा समय सारणी की सूची


जीवनी-साहित्य

आधिभौतिक परिचय -

यद्यपि - हमारे प्यारे जै जै ने हमको दो ही सेवायें देकर इस जग में भेजा है । १ - भगवत्प्रेम का प्रत्येक हृदय में प्रवाह । २ - वैदिक विशुद्ध श्री सत्य सनातन धर्म की यथासम्भव सेवा । "बस इतना ही परिचय पर्याप्त है" । तथापि सभी भगवत्प्रेमियों व वैदिक विशुद्ध श्री सत्य सनातन धर्म के सेवकों के प्रेममय सन्तुष्टयर्थ यह परिचय ध्यान से पढ़ें ।

अब प्रेममय आध्यात्मिक परिचय भाग - 1

श्री नित्यनिकुञ्जेश्वरी , रस-रासेश्वरी , वृषभानुजा , प्राणेश्वरी , कृपा बरसाने वारी , वेदातीता , ब्रज की अलबेली सरकार , जीवनसार-सर्वस्व , श्री श्री राधारानी , श्री स्वामिनी जू , अनन्तानन्त प्रेम-माधुर्य-रस-भाव-आनन्द-केलि की अगाध-अबाध महा-महासागर श्री लाड़ली जू व इनके ही अभिन्न-तत्त्व नित्य-निभृत-निकुञ्ज विलासी , कोटि-कोटि कन्दर्प-दर्प-दमनीय-कमनीय कान्ति वाले परम लाड़ले , ब्रज के अलबेले सरकार श्री श्री राधावल्लभलाल जू महाराज की कृपाकटाक्षमात्र ही मुझ दासानुदास का परिचय है ।

अब प्रेममय आध्यात्मिक परिचय भाग - 2

प्यारो ! प्रथम तो दासानुदास का स्वयं में कोई परिचय होता नहीं । जो भी परिचय मानना है वह केवल और केवल प्यारे प्राणाधार श्री प्रिया-प्रियतम के ही कृपाबल से मानना चाहिये । तथा च - जिस पाञ्चभौतिक देह के परिचय की भावना आप लोगों के मन में है (यद्यपि आपका भाव प्रणम्य है तथापि) उस नश्वर शरीर का क्या परिचय दूँ ? यह तो प्रत्येक जन्म में अपना परिचय परिवर्तित कर देता है ! अतएव इस शरीर के परिचय से क्या परिचय करवाना ?

561

REGESTER USER

365

SUSCRIBER

हमें गीता क्यों पढ़ना चाहिए

संपर्क सूचना

Locate US

Vrindavan Uttar Pradesh (IN)

MAIL US

support@balshukgopeshji.com

CALL US

+91 097602 87904

Latest Katha at

Mon - Sat: 08 Am - 17 Pm

संदेश छोड़े